क्या आप कैश बनाने के बदले कैश गिन रहे हैं ? बिज़नेस-अकॉउंटिंग को ‘ना’ कहें   !!!

Business accounting, Accounting software, vyapar

देखिये, आपने अपना बिज़नेस पैसे ट्रैक करने के लिए शुरू नहीं किया है – पैसे बनाने के लिए शुरू किया है | है, ना ?

निश्चित रूप से, खुद का  बिज़नेस शुरू करना मतलब, ग्राहकों को सर्विस देना , इन्वेंट्री (सामान) खरीदना, बिलिंग और कई ऐसे काम, जो किसी के लिए भी मुश्किल हैं, आपको ये सब खुद करने पड़ेंगे | उसके साथ आपको कैश फ्लो भी मैनेज करना पड़ता है, जो सबसे जरूरी काम है | एक बिज़नेस के मालिक होने के कारण, ये पक्का करना कि आपका कैश फ्लो बिना किसी परेशानी के लगातार बना रहे, आपके लिए एक चुनौती हो सकती है|

हम अक्सर इसे सुनते हैं – “कैश ही राजा है” | मेरा विचार अलग है | कैश राजा नहीं है, उसे जो संभालना जनता है वो राजा है !

बहुत सारे बिज़नेस ये सोचते हैं कि सब कुछ अपने अकाउंटेंट को दे देना सही है|

इसका मतलब है कि, अपने निजी  फाइनेंशियल डिटेल्स और बिज़नेस कंट्रोल किसी और को देना | मेरा मानना है कि, ये एक बहुत बड़ी गलती है, जिस में हमेशा ज़ोखिम रहता है |  इसके आलावा, क्या आपको नहीं लगता है कि, मालिक होने के नाते आपका बिज़नेस पर कंट्रोल होना चाहिए ना कि आपके अकाउंटेंट का ? आपको निर्णय लेने चाहियें, ना कि आपके अकाउंटेंट को, जिसको सिर्फ आपके बिज़नेस के आंकड़े पता हैं ? सोचिये !

मैं आपसे ये नहीं कह रहा कि आप अकाउंटेंट का काम करें | अकॉउंटिंग सीखना लाभदायक लगता है, पर क्या ये आपके समय  के योग्य है ? वैसे भी , बिज़नेस को अच्छी तरह से चलाने के लिए, अकॉउंटिंग सीखना या अकाउंटेंट का होना ज़रूरी नहीं है | ये एक झूठी बात है | आपको बस सही टूल्स इस्तेमाल करके अपना बिज़नेस चलाने के लिए स्मार्ट बनना  पड़ेगा |

सही बात तो यह कि, कुछ अद्भुत सॉफ्टवेयर टूल्स हैं जो ऐसे नियमित कार्यों को ऑटोमेट (स्वचालित) कर देते हैं | संयोग से, इसके लिए हमारे पास ‘व्यापर’ जैसा  बिज़नेस मैनेजमेंट सॉफ्टवेयर है, जो आपकी सारी बिज़नेस जरूरतों को और अच्छी तरह मैनेज करेगा | ये बैकग्राउंड में सारे अकॉउंटिंग कार्यों को करते हुए, आपको आपके सारे बिज़नेस संबंधी कार्यों को आसानी से करने देता है ताकि आपका  अपने बिज़नेस पर पूरी तरह से कंट्रोल रहे| ये जरूरी डेटा निकालने में आपकी मदद करता है, जो आप अपने अकाउंटेंट को सही में जो अकॉउंटिंग कार्य हैं, जैसे कि टैक्स रिटर्न्स फाइलिंग, आदि, के लिए दे सकेंगे  | इस वजह से आपको अपने बिज़नेस पर ज़्यादा ध्यान देने के लिए समय मिलेगा और जो रिपोर्ट्स बनी हैं, उनके आधार पर भविष्य में होने वाली चीज़ों का आप अनुमान लगा पाएँगे |

वास्तव में, बिज़नेस के लिए बिज़नेस के विकास (growth), फायदा(profits)  और टैक्स जैसे मैट्रिक्स चाहियें | इतना ही ! आपको उन चीज़ों के बारे में परेशान होने कि क्या ज़रुरत है, जो  आपका अकाउंटेंट सँभाल सकता है ? स्मार्ट बनें ! अपने बिज़नेस के निर्णय खुद लें | अकाउंटेंट्स और बिज़नेस चाहने वाले अकाउंटेंट से प्रभावित मत होईये | सर्वे के अनुसार, 11% बिज़नेस , अकाउंटेंट्स के गलत तरीकों और गलत फैसलों  की वजह से फेल (असफल )हो जाते हैं | क्या आपको नहीं लगता है कि बिजनेसमैन होने के नाते आप अपने बिज़नेस के लिए ज्यादा सही निर्णय ले सकते हैं ?

खैर, अंत में, पैसे कमाना किसी भी बिज़नेस के लिए मायने रखता है, है ना ?

क्या आप मुझसे सहमत हैं ? अपने विचार नीचे लिखिए  >>

हैप्पी व्यपारिंग !Accounting software, GST compatible accounting software, Vyapar, Invoicing software

You May Also Like

Leave a Reply