भारत में अपनी खुद की ट्रैवल एजेंसी कैसे शुरू करें

पर्यटन में सालाना 14 % की बढ़ोतरी होती है। यह काफी लोकप्रिय व्यवसाय है भारत में। क्या आपको दूसरों को सुखद सफर का अनुभव कराने में ख़ुशी होती है। अगर नहीं भी होती फिर आप ट्रैवल को व्यवसाय बनाने के अवसर पर ज़रूर विचार करें। अगर सही से काम किया जाये तो ट्रैवल एजेंसी बहुत हीं लाभदायक है।


यह रहे आपके लिए 10 आसान से पड़ाव जिनका पालन कर के आप अपनी ट्रैवल एजेंसी का व्यवसाय शुरू कर सकते हैं:

1 ) अपने ट्रैवल व्यवसाय के लिए एक योजना बनायें

आप किस तरह की ट्रैवल सर्विस शुरू करना चाहते हैं?

  • पहले आप ये तय कर लें की आप समाज के किस हिस्से को अपना लक्ष्य बनाना चाहते हैं उदाहरण के तौर पर जैसे 25 वर्ष से अधिक की महिलाएं या शादी शुदा जोड़े इत्यादि।
  • आपके पास उनके लिए क्या प्रयोजन है? उदाहरण- 10 दिन के लिए सिंगापुर की यात्रा, 5 दिन के लिए गोवा बीच की यात्रा|
  • अपनेख़र्चे और लाभ दोनों तय कर लें|
  • अपने खुद की विज्ञापन योजना लिखें|आप किस तरह से प्रचार करना चाते हैं? उदाहरण – अख़बार के माध्यम से, फेसबुक के माध्यम से, इत्यादि|
  • आप अपने खातों को किस तरह से बनाये रखना चाहते हैं? अपने खाते को सही तरीके से बनाये रखने के लिए, नकद का हिसाब रखने के लिए और अपने संपर्क के अभिलेखन के लिए कोई अच्छी व्यवसाय सॉफ्टवेयर को चुनें।

2 ) पता करें की किस चीज़ की मांग अधिक है।

थोड़ा अनुसंधान करें और पता करें की किस तरह की ट्रैवल एजेंसी की मांग है समाज में।

  • सामाजिक स्तर पर पता करें की कही कोई नई ट्रैवल मार्किट में ऐसी मांग तो नहीं जिसमे कोई शादी शुदा जोड़ा अपने हनीमून के लिए किसी बीच पर शांति से आराम करने के बजाये किसी साहसिक (एडवेंचर) यात्रा पर तो जाना नहीं चाहता।
  • ध्यान दें की कही लोग अपनी छुट्टी अपने पसंदीदा तरीके से अपने अनुकूल तो करना नहीं चाहते।

3 ) अपनी मात्र ट्रैवल एजेंसी न बनाये बल्कि उसे एक ब्रांड बनायें।

लोगों को केवल सर्विस नहीं बल्कि अनुभव प्रदान करें। अपने ब्रांड की एक मजबूत छवि बनायें।

  • तय करें की आपके ग्राहकों कों कैसा महसूस होना चाहिए जब वो आपके स्थान पर आएं , आपकी वेबसाइट या जब आपका प्रचार देखें या जब आपके सर्विसेज का इस्तेमाल करें।
  • सोचें की आप ऐसा क्या अनुभव प्रदान कर सकते हैं जो दूसरे ना कर सकें?
  • स्थानीय लोगों की सहायता से एक अनोखी और सबसे अलग सर्विस प्रदान करें जो लोग युहीं खुद-से वैसे पर्यटन स्थान पर ना जा सकें।

4 ) सभी क़ानूनी दस्तावेज़ तैयार कर लें जो भी आपके ट्रैवल एजेंसी के लिए आवश्यक हो।

वह सभी आम लाइसेंस प्राप्त कर लें जिसकी आवश्यकता आपको किसी भी प्रकार की ट्रैवल एजेंसी की शुरुवात करने से पहले होंगी।

  • अलग अलग राज्य और अलग अलग देशों के अलग अलग ट्रैवल एजेंसी के लाइसेंस होंगे।
  • अपने व्यवसाय का संचरण तय करें और अपना GST पंजीकरण करवा लें।
  • अपने व्यवसाय का नामांकन करा कर GSTIN अंक प्राप्त कर लें।

5 ) अपनी पूँजी इकट्ठा कर लें जिनकी जरूरत आपको अपने ट्रैवल व्यवसाय को शुरू करने में पड़ेगी।

अपने ट्रैवल एजेंसी को फ़ंड करने के लिए आपकी क्या योजना है?

  • भाग्य की बात है की आपको शुरुवाती दौर में महंगे उपकरण और बड़े स्थान की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।
  • आपको अपने कार्यालय के किराये के लिए अपने व्यवसाय के प्रचार के लिए थोड़े रुप-यों की आवश्यकता होगी।
  • कई ट्रैवल एजेंसी की शुरुवात परिवार से मिली आर्थिक सहायता से होती है। कोशिश करें की आप अपनी शुरुवात अपनी जमा पूँजी से कर पाएँ यदि ऐसा ना हो सके तो कोई छोटी व्यवसाय ऋण लें ले।

6 ) अपने कार्यालय के लिए एक स्थान चुन लें।

अपने व्यवसाय क लिए उपयुक्त स्थान तय कर लें।

  • हालाँकि ये सिर्फ एक विकल्प है आप चाहे तो अपना व्यवसाय अपने घर से भी शुरू कर सकते हैं। अपने घर से अपने व्यवसाय को शुरू करने से आपको कई फायदे हो सकते है, आपके खर्चे काम हो जायेंगे, समय की पाबंदी नहीं होगी इत्यादि| इंटरनेट पर अपनी उपलब्धि बढ़ाएं और कोशिश करें की आप ऑनलाइन उपलब्ध रहें।

7 ) अपने कार्यकर्ताओं को नियुक्त करें।

अच्छे कार्यकर्ताओं की नियुक्ति कई बार आपकी सफलता और अ-सफलता के बीच का अंतर हो सकती है| इससे आपके ग्राहकों के आवागमन पर भी असर पड़ेगा।

  • एक अच्छे कार्यकर्ता के होने से आप अपने रोज़मर्रा के काम पर अधिक ध्यान दें पाएंगे जैसे इमेल्स देखना, फ़ोन पे उपलब्ध रहना इत्यादि। इससे आपको अपने नए ग्राहकों पर भी ध्यान देने में मदद होगी।
  • आपको ऐसा करने की तब-तक आवश्यकता नहीं है जबतक आप अपने व्यवसाय को बढ़ाने की परियोजना नहीं बनाते।

8 ) अपने एजेंसी का स्थानियो के साथ प्रचार करें।

अपने एजेंसी के प्रचार की योजना पर विचार करें।

  • स्थानीय प्रचार, दुसरो क द्वारा सिफ़ारिश, लोगों क द्वारा तारीफ, ये सब अपने ट्रैवल व्यवसाय के बढ़ाने के लिए बहुत ही उपयोगी है|
  • अक्सर ऑफ-लाइन प्रचार करना काफी महँगा होता है पर इसे ना छोड़े।

9 ) अपने ट्रैवल व्यवसाय का ऑनलाइन प्रचार करें।

इस बात का एहसास होना काफी आवश्यक है की आज-की पीढ़ी जानकारी के लिए अधिकतर इंटरनेट पर निर्भर रहती है।

  • सफर संबंधित अधिकतर बुकिंग ऑनलाइन की जाती है। आप भी सभी तरह के सफर जैसे बस की, ट्रेन की, विमान की, बुकिंग ऑनलाइन मंज़ूर करें। इससे आपको काफी ईमानदार ग्राहक मिलेंगे।
    आपकी ऑनलाइन उपलब्धि सबसे अहम नियम है।

10 ) सही मूल्यांकन करें

निष्पक्ष रूप से मूल्यांकन करें, ना अधिक ना कम।

  • अपने सर्विसेज के मूल्यांकन करने से पहले अपने प्रतिद्वेंदी के मूल्यांकन की जांच परख कर लें और फिर उसी आधार पर अपने मूल्य तय करें। यह करने के लिए आप उन्हें कॉल कर सकते हैं या उनके विज्ञापन देख सकते हैं।
  • अपनी फ़ीस तय करने से पहले देख लें की आपने अपने ख़र्चों की सूची दे रखी हो| इससे बुरी बात और क्या हो सकती हैं जब आपको पता चले की आपने मूल्य तय किया, ग्राहकों ने वक़्त से उसे अदा भी किया परन्तु फिर आप घाटे में रहे।

नई तकनीकियों को अपनाएं
किसी भी व्यवसाय को शुरू करना आसान हैं पर उसे सफलता पूर्वक चलाते रहना एक बड़ी बात है|
अकेले मात्र कुछ लोगों के साथ सही तरीके से सफलता पूर्वक एक ट्रैवल एजेंसी को चलाना आजकल एक बड़ी चुनौती हैं| अपना कार्य आसान करने क लिए Vyapar जैसे सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करें और अपने खातों का सही हिसाब रखें|

नए बिज़नेस टिप्स के उपदटेस के लिए जुड़े रहें Vyaparapp.in पर  

डाउनलोड करें बेहतरीन फ्री बिलिंग सॉफ्टवेयर

Happy Vyaparing!!!

You May Also Like

Leave a Reply