भारत में मेडिकल स्टोर/फार्मेसी बिज़नेस कैसे शुरू करे

medical store, pharmacy business, small business, business accounting

फार्मेसी बिज़नेस भारत में एक सदाबहार बिज़नेस है जो इकनोमिक साइकल्स से प्रभावित नहीं होता है। इसलिए, अगर किसी के पास निवेश के लिए बहुत कम पूंजी और स्थान है, तो फार्मेसी भारत में कई बिजनेसमैन के लिए आदर्श बिज़नेस है।

मेडिकल स्टोर के लिए फार्मेसी लाइसेंस प्राप्त करने के लिए ज़रूरी चीज़ें/बातें :

# 1 एक फार्मासिस्ट

सबसे पहले, क्या आप बी फार्मा / एम फार्मा हैं?

यदि नहीं, तो आपको रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए एक ऐसे फार्मासिस्ट को ढूंढना पड़ सकता है जो आपकी गुडविल(अच्छी साख) के नाम पर आपको अपना नाम बिज़नेस के लिए उधार देने को तैयार हो जाए|

ऐसा इसलिए है क्योंकि आपको फार्मेसी लाइसेंस प्राप्त करने के लिए कम से कम एक फार्मासिस्ट (या तो स्वामी या कर्मचारी) होने के योग्यता के प्रमाण की ज़रुरत  होगी।

# 2 पर्याप्त स्टोर स्पेस(जगह)

मेडिकल शॉप या फार्मेसी या होलसेल आउटलेट शुरू करने के लिए आपको कम से कम 10 वर्ग मीटर की जगह के साथ उस जगह के किराए के समझौते(एग्रीमेंट) या / और मालिकाना हक़ के प्रमाण की ज़रुरत होगी।

अगर, फार्मेसी बिज़नेस रिटेल और होलसेल दोनों का है, तो कम से कम 15 वर्ग मीटर जगह की ज़रुरत होगी

# 3 निवेश

फिर भी, अगर आप स्थानीय क्षेत्र को टारगेट कर रहे हैं तो आपकी मूल ज़रुरत एक दुकान (किराये या स्वयं की) होगी। बस ये सुनिश्चित करें कि आप शुरु में खरीदे जाने वाली किसी दुकान (खरीद / किराया) + इन्वेंटरी के लिए अपना हिसाब अच्छी तरह लगा लें। शहर, जगह  और मेडिकल स्टोर के आकार के आधार पर किसी स्थान का  किराया 10,000 रुपये जैसी छोटी रकम से लेकर 10 लाख रुपये तक हो सकता है।

# 4 फार्मासिस्ट के लिए भर्ती

ज़रूरी बात ये है कि दवाओं की बिक्री के समय, पूरे कामकाजी घंटों में काउंटर पर एक योग्य व्यक्ति होना ज़रूरी है! आम तौर पर, आपको अपने मेडिकल स्टोर में फार्मासिस्ट को रखने के लिए 5,000 रुपये से 30,000 / प्रति महीना तक देना पड़ सकता है।

किसी भी मामले में, ये योग्य व्यक्ति हो सकता है:

  • फार्मेसी विभाग द्वारा एप्रूव्ड(स्वीकृत) एक रज़िस्टर्ड  फार्मासिस्ट या
  • दवाओं में डील करने में 1 वर्ष का अनुभव वाला ग्रेजुएट या
  • एक व्यक्ति जिसने दवाओं में डील करने में 4 साल के अनुभव के साथ एसएसएलसी पास किया हो, विशेष रूप से इस कार्य के लिए दवा नियंत्रण विभाग द्वारा एप्रूव्ड(स्वीकृत)।

# 5 कोल्ड स्टोरेज की सुविधा:

सबसे ज़रूरी बात यह है कि दुकान में एक रेफ्रिजरेटर होना चाहिए।

ऐसा इसलिए है क्योंकि, कुछ दवाओं जैसे वैक्सीन्स, सेरा, इंसुलिन इंजेक्शन आदि पर लगे लेबल के निर्देशों के अनुसार, उन्हें रेफ्रिजरेटर में रखा जाना ज़रूरी है।

# 6 दस्तावेज़ों (डाक्यूमेंट्स) की ज़रुरत:

फार्मेसी बिज़नेस शुरू करने के लिए जो ज़रूरी दस्तावेज़ चाहिए वे एक राज्य से दूसरे राज्य में अलग अलग होते हैं। फिर भी, भारत में दवा लाइसेंस प्राप्त करने के लिए ज़रूरी दस्तावेज़ों की एक प्रस्तावित लिस्ट(सूची) नीचे दी गई है:

  1.    निर्धारित प्रारूप में फार्मेसी लाइसेंस आवेदन पत्र।
  2.    हस्ताक्षरित आवेदन पत्र  के साथ कवर लेटर जिस पर आवेदक का नाम और पदनाम लिखा हो
  3.    दवा लाइसेंस प्राप्त करने के लिए जमा शुल्क का चालान।
  4.    बताए गए फॉर्मेट में  घोषणा फॉर्म।
  5.    परिसर के लिए  की-प्लान (ब्लूप्रिंट)।
  6.    परिसर का साइट प्लान (ब्लूप्रिंट)।
  7.    परिसर पर आपके अधिकार का आधार।
  8.    मेडिकल स्टोर के मालिक / भागीदारों (पार्टनर्स) के पहचान प्रमाण और फ़ोटो।
  9.    अगर किराए पर लिया गया है तो परिसर /जगह पर अधिकार का प्रमाण
  10.   बिज़नेस के रजिस्टर्ड होने का प्रमाण  (इनकॉर्पोरेशन प्रमाणपत्र / एमओए / एओए / पार्टनरशिप डीड)
  11.    ड्रग्स एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट, 1940 के तहत मालिक / साझेदार / निदेशकों के नॉन-कन्विक्शन का एफिडेविट
  12.   एक रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट या पूरी तरह से इसी क्षेत्र में काम करने वाले योग्य व्यक्ति का एफिडेविट
  13.    रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट / योग्य व्यक्ति का नियुक्ति पत्र, अगर आपके यहाँ कार्यरत है तो ।

सभी ज़रूरी चीज़ों को पूरा करने के बाद, किसी को दवा निरीक्षक कार्यालय जाकर मेडिकल स्टोर और दवा स्टोर शुरू करने की अनुमति लेने के लिए आवेदन करना पड़ेगा।

व्यापार की सलाह:

  • सबसे पहले,  उस जगह दुकान को किराए पर लेने / खरीदने से बचें जहां पहले से ही कई मेडिकल स्टोर हैं ताकि बेकार की प्रतिस्पर्धा  से बचा जा सके|
    • अनौपचारिक रूप से, आप हमेशा डॉक्टर / अस्पताल के साथ जुड़ सकते हैं ताकि आप उनके साथ “टाई-अप” कर सकें, यह ग्राहक बेस तक पहुंचने का सबसे आसान तरीका है (हालाँकि यह नैतिक नहीं है लेकिन ज्यादातर लोग इसी का प्रयोग करते हैं)।
    • हालांकि, इंडियाफाईलिंग्स आपको भारत में फार्मेसी बिज़नेस शुरू करने में मदद कर सकती हैं। अधिक जानकारी के लिए, IndiaFilings.com पर जाएं

हैप्पी व्यापारिंग !!!Accounting software, GST compatible accounting software, Vyapar, Invoicing software

 

You May Also Like

Leave a Reply