‘व्यापर’ – इंडिया का बेस्ट GST कॉम्पलिएंट सॉफ्टवेयर छोटे व्यापारिओं के लिए

GST READY, vyapar, accounting software, GST, GSt accounting APp. inventory App, Invoicing App, Free GST App, Tally, Invoice, GST Billing App

यह अक्सर देखा जाता है जब बाजार में एक बड़े  बदलाव की शुरुआत होती है, तो बिज़नेसेज का एक बड़ा भाग परेशान हो जाता है |GST को भारतीय अर्थव्यवस्था में सबसे बड़ा बदलाव माना जा रहा है ।  क्या आप इसकी जटिलता के कारण परेशान हैं?GST के नॉन-कंप्लायंस की वजह से लगने वाले भारी फाइन से डरे हुए हैं ? आपको इस बात की चिंता है कि, आपके बही खातों को अपडेट करने के लिए जो टूल्स और सिस्टम चाहिए वो आपके पास नहीं हैं ?

लीजिए, अब आपकी चिंता खत्म हो गई है।‘व्यापार ‘ अब GST के  लिए तैयार है। आपने अपने खातों को डिजिटल बनाने में हम पर भरोसा किया है और परेशानी मुक्त ट्रांजिशन (परिवर्तन ) का अनुभव किया है।  अब वक़्त है आपको GST के लिए तैयार करने का |

‘व्यापार’ ऐप  को आपके आसपास के कई ट्रेडर्स और बिज़नेस करने वाले लोगों द्वारा सराहाया जा रहा है और दूसरों को भी  काम में लेने के लिए कहा जा रहा है |

व्यापार’ के GST फीचर्स :

HSN / SAC कंप्लायंस: आपके बिज़नेस के टर्न ओवर  के अनुसार, GST कंप्लायंस ऑप्शंस (टैक्स सहित या टैक्स बिना ) को चुनें । इसके अलावा, अपना  HSN/ SAC कोड पाएँ और इसे ‘व्यापार’  एप्लिकेशन में अपने प्रोडक्ट्स को सही टैक्स केटेगरी  में रखने के लिए डालें |

GSTIN मैपिंग: हर महीने की 10वीं  से 20वीं तारीख के बीच का समय बहुत कठिन समय होता है, लेकिन आपको चिंता करने  की जरूरत नहीं है क्योंकि ‘व्यापार’ ऐप सभी स्टेकहोल्डर्स और उनके साथ जुडी  कंपनियों के GSTIN विवरण इकठ्ठे करता है और उन्हें संबंधित इनवॉइस के साथ जोड़   देता है ।इस तरह से , रिटर्न फाइल करने के समय आप चिंता मुक्त रहेंगे ।

अंतरराज्यीय लेनदेन: अगर,आप एक ऐसे ट्रेडर हैं जो कई राज्यों में सामान सप्लाई करते हैं,  तो ‘ व्यापार’ ऐप आपको अलग-अलग राज्यों में पहले से लागू टैक्स कोड्स को स्टोर करने की सुविधा प्रदान करता है।

टैक्स डिस्ट्रीब्यूशन: सभी इन-डायरेक्ट टैक्सेज को जोड़कर एक ही टैक्स बना दिया गया है  और यही GST है। आपके ग्राहक हमेशा इनवॉइसेज में निर्धारित प्राइस को अलग अलग भागों में बांटकर  लिखा हुआ देखना चाहेंगे| ‘व्यापार’ ऐप इस का ख्याल रखता है । आपको केवल सेल्लिंग प्राइस डालने की ज़रूरत है और यह खुद ही CGST, SGST या IGST के तहत साफ़ तौर पर बताए गए  टैक्स डिस्ट्रीब्यूशन के हिसाब से इनवॉइस बनाएगा।

आसान टैक्स रिटर्न फाइलिंग : एक बार आपके पास रिकॉर्ड हैं, तो रिपोर्ट्स फाइल करने का प्रोसेस पूरा करने के लिए, आपको सिर्फ GST पोर्टल पर डेटा अपलोड करना होगा। व्यापार  ऐप आपको एक्सेल या सीएसवी के रूप में में सभी इनवॉइसेज डेटा निकालने की अनुमति देता है। आपको बस इतना करना होगा कि, इस फ़ाइल को टैक्स रिटर्न पोर्टल GSTR, GSTR2, GSTR3 जो भी लागू होता है, उस पर जाकर अपलोड कर दें ।

सोच समझ कर फ़ैसला लेने में मदद : बिज़नेस के मालिक के रूप में, यह बहुत जरूरी  है कि आप आंकड़ों को जहाँ चाहें वहां तुरंत देख सकें। ‘व्यापार’ ऐप आपके सभी GST से संबंधित डेटा को व्यापक और आसानी से पढ़ने वाली रिपोर्ट्स में रखता है। इससे आपको अपने बिज़नेस की GST की कॉम्पलिएंसेज को जल्दी से समझने में मदद  मिलती है और इस प्रकार आप टैक्स के बारे में ज्यादा चिंता करने की बजाय अपने बिज़नेस पर ध्यान दे  सकते हैं

‘व्यापार  ऐप’   GST  जैसे बड़े  बाजार बदलाव  के लिए एक क्रान्तिकारी   हल है |आओ, अपने बिज़नेस को मजबूती दें  |

हैप्पी व्यपारिंग !Accounting software, GST compatible accounting software, Vyapar, Invoicing software

 

You May Also Like

Leave a Reply