Home » GST News » GSTR 3B क्या  है? किसे फाइल  करना चाहिए ? ड्यू डेट  और फ़ॉर्मेट 

GSTR 3B क्या  है? किसे फाइल  करना चाहिए ? ड्यू डेट  और फ़ॉर्मेट 

  • by

GSTR रिटर्न फाइल  करने में परेशानी? समझ  नहीं पा रहे की GST कैसे  काम करता है? GSTR 3B अंतिम तारीख  से पहले फाइल करना है पर नहीं जानते  की कैसे फाइल करना है?

चिंता  मत कीजिये! GSTR 3B की  सभी जानकारी यहाँ दी गयी  है|

GSTR-3B क्या  है?

GSTR-3B एक  ऐसा रिटर्न है  जिसे सभी करदाताओं  को हर महीने फाइल करनी  होती है और इसे वो स्वयं  घोषित करते हैं (सेल्फ-डिक्लेरेशन)|

GSTR-3B रिटर्न  में, डीलर द्वारा  जमा किये गए सभी आउटपुट  क्रेडिट, ख़रीददारी पर मौजूद  ITC (इनपुट टैक्स क्रेडिट), GST  में जो योग्य नहीं है, जिसपर GST नहीं  लगता, RCM, प्रोपोरशनेट डिसालवेंस ( ऐसी परिस्थिति  में जहाँ होटल रेस्टोरेंट सेल और ट्रैवल डेस्क  पर 5% GST चार्ज करता है) इन सभी को गिनने की प्रक्रिया  का सारांश होता है|

नोट: इनवॉइस  के मुताबिक ब्रेक  करने की आवश्यकता नहीं  होती| GSTR-3B में सिर्फ कुल  संख्या की आवश्यकता होती है|

GSTR-3B किसे  फाइल करनी चाहिए?

सभी  व्यक्ति  जो भी GST के  अंतर्गत पंजीकृत  (रजिस्टर्ड) हैं उन्हें  GSTR-3B के साथ नील रिटर्न  भी फाइल करना होगा और यह अनिवार्य  है, कुछ को छोड़कर:

  • इनपुट  सर्विस डिस्ट्रीब्यूटर 
  • कम्पोजीशन  सप्लायर 
  • नॉन -रेसिडेंट  टैक्सेबल व्यक्ति 
  • OIDAR का सप्लायर     

नोट:

आपको  अपने हर  एक GSTIN के  लिए अलग अलग GSTR 3B फाइल  करनी होगी|

अगर  किसी महीने  कोई ट्रांज़ैक्शन  नहीं हुई हो फिर  भी GSTR-3B फाइल करना  अनिवार्य है|

आप  शायद  यह भी  पढ़ना चाहेंगे: 

कैसे vyapar की मदद से एक छोटे व्यवसाय के मालिक श्री विरुपक्षीय जी GSTR आसानी से फाइल करते हैं

GSTR-3B कब  फाइल करनी होती  है?

GSTR 3B फाइल  करने के ड्यू  डेट 

अप्रैल 2019 20 मई 2019 (अन्य लोग) 20 जून 2019 (ओडिशानोटिफिकेशन पढ़ें
मई 2019 20 जून 2019
जून 2019 20 जुलाई 2019
जुलाई 2019 22 अगस्त 2019 | नोट: “बिहार, गुजरात, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, ओडिशा, उत्तराखंड के अधिसूचित जिलों के लिए  और उन पंजीकृत व्यक्तियों के लिए भी जिनका व्यवसाय का मुख्य स्थान J & K में है उनके लिए 20 सितंबर 2019 तक नियत तिथि (Due Date) है।” नोटिफिकेशन  यहाँ
अगस्त 2019 20 सितंबर 2019
सितंबर 2019 20 अक्टूबर 2019
अक्टूबर 2019 20 नवंबर 2019
नवंबर 2019 20 दिसंबर 2019

GSTR-3B में  क्या क्या जानकारी  होनी चाहिए?

GSTR-3B फॉर्म  में दी जाने वाली  जानकारियों में निम्लिखित  शामिल हैं:

  • पंजीकृत (रजिस्टर्ड) करदाता  द्वारा किये गए सेल (बिक्री) और  परचेस (ख़रीद)
  • इनपुट  टैक्स क्रेडिट 
  • लाइबल  टैक्स 
  • टैक्स  पेड 

GSTR 3B का  फॉर्मेट 

GSTIN: सभी  करदतों का 15 डिजिट  का गुड्स एंड सर्विसेज  टैक्सपेयर आइडेंटिफिकेशन नंबर  (GSTIN) होता है| यह अपने आप भर  दिया जाता है|

पंजीकृत (रजिस्टर्ड) व्यक्ति  का नाम: यह भी अपने आप भर  दिया जाता है|

उन  सेल (बिक्री) और  परचेस (ख़रीद) की जानकारी  जो रिवर्स चार्ज के लिए लिजबले  है (पार्ट A): टैक्स की कुल राशि ( 2 राज्यों  के बीच और राज्य के अंतर्गत दोनों) और साथ ही  कुल टैक्स का विभाजन (IGST, CGST, SGST/UTGST):

  • आउटवर्ड  टैक्सेबल सप्लाइज  दूसरे ज़ीरो रेट, नील  रेट और एक्सेम्पटेड 
  • आउटवर्ड  टैक्सेबल सप्लाइज  (ज़ीरो रेटेड)
  • आउटवर्ड  सप्लाइज, निल  रेटेड और एक्सेम्पटेड   की तरफ 
  • इनवर्ड  सप्लाइज जो  रिवर्स चार्ज  के आधार पर पे  करने के लिए लाइबल  है 
  • नॉन-GST आउटवर्ड  सप्लाइज 

एक  ही राज्य  के अंतर्गत  उन व्यक्तिओं  को किये गए सप्लाई  की जानकारी जो पंजीकृत  नहीं हैं, जो कम्पोजीशन डीलर्स  है और जिनके पास UIN है (पार्ट B):

इस  टेबल  में एक  ही राज्य  के अंतर्गत, बिना  पंजीकृत किये व्यक्ति, कम्पोजीशन  डीलर्स और जिनके पास UIN है, उन्हें  किये गए आउटवर्ड सप्लाई का विभाजन दिखाया  जाता है| इस जानकारी में राज्य या यूनियन टेरिटरी  के आधार पर कुल टैक्स राशि और कुल IGST की जानकारी  होनी चाहिए जो सप्लाइज पर लगायी गयी है|

इनपुट  टैक्स क्रेडिट: इस  टेबल आपकी योग्य ITC जो  उपलब्ध है और आपके द्वारा  बनायीं ITC रेवरॉल्स, दोनों का  इस्तेमाल किया जाता है नेट ITC निकालने  में|

ITC उपलब्धता  (पुरे में या  हिस्से में): उन  इनवर्ड सप्लाइज को  हिस्सों में दिखाए जिसपर  ITC लगाया गया है| इसमें निम्लिखित  जानकारियाँ होनी चाहिए:

  • गुड्स  की इम्पोर्ट: IGST का  टैक्स क्रेडिट जो गुड्स  की इम्पोर्ट पर पे किया गया  है|
  • सर्विसेज  की इम्पोर्ट: IGST का  टैक्स क्रेडिट जो सर्विसेज  की इम्पोर्ट पर पे किया गया  है|

 इनवर्ड  सप्लाइज जो  रिवर्स चार्ज  पर लाइबल है: इनवर्ड  सप्लाइज जो रिवर्स चार्ज  के लिए लाइबल हैं और उनपर  GST पे किया गया है उन्हें यहाँ  लिखें| अधिक जानकारी के लिए रिवर्स  चार्ज के लिए लाइबल इनवर्ड सप्लाइज के  बारे में पढ़ें|

  • ISD से  इनवर्ड सप्लाइज  इनपुट सर्विस डिस्ट्रीब्यूटर  (ISD) से मिला इनपुट टैक्स क्रेडिट 
  • बाकी  सभी ITC: दिए  गए को छोड़कर बाकी  दूसरे इनवर्ड सप्लाइज  के ITC को यहाँ भरे 

 उन  इनपुट  टैक्स क्रेडिट  की जानकारी जिन्हें  रिवर्स करनी है: जो ITC रिवर्सेबल  हैं, इनपुट के इस्तेमाल (यूसेज ऑफ़ इनपुट)/इनपुट  सर्विसेज/कैपिटल गुड्स जो नॉन-बिज़नेस के लिए इस्तेमाल  होते हैं या उन सप्लाइज के लिए इस्तेमाल होते हैं जिन्हें  एक्सेम्पट किया गया है उन्हें यहाँ लिखें|

ओर  साथ हीं  अगर डेप्रिसिएशन,कैपिटल  गुड्स के कॉम्पोनेन्ट, और  प्लांट & मशीनरी के टैक्स पर  क्लेम किया गया है तो भी ITC को  स्वीकृति नहीं दी जाएगी|

  • जो  ITC उपलब्ध  दिख रही है  उसमे से इस टेबल  में दिए गए उस ITC को  जो रिवर्स किये जायेंगे, उन्हें  घटाने के बाद जो आएगा वही योग्य  ITC कहा जायेगा|

 उन  ITC की  जानकारी जो  योग्य नहीं है: नेगेटिव  लिस्ट में दी गयी इनवर्ड  सप्लाइज जिसपर GST पे किया गया  है वो इनपुट टैक्स क्रेडिट (ITC) के  योग्य नहीं है| इन जैसे सप्लाइज पर पे  किये GST की जानकारी इस टेबल में लिखी जाती  है| अधिक जानने के लिए उन सप्लाइज की सूची देखें  जो ITC के लिए योग्य नहीं है|

 एक्सेम्पट, निल-रेटेड  और नॉन-GST इनवर्ड सप्लाइज  की जानकारी: यहाँ आपको उन इनवर्ड  सप्लाइज की जानकारी देनी है जो कम्पोजीशन  स्कीम के तहत आने वाले सप्लायर और सप्लाई ट्रांज़ैक्शन, निल  रेटेड और एक्सेम्पट सप्लाइज और नॉन GST सप्लाइज के लिए उस टैक्स  पीरियड में की गयी है .(एक हीं राज्य और दो राज्यों के बीच दोनों  तरह के सप्लाइज जो आपने किये हैं)

 टैक्स  का पेमेंट: यहाँ  आपको अपने द्वारा  निर्धारित टैक्स की  जानकारी देनी होगी जो  आपके अनुसार आपको देनी है| यह  टेबल नंबर 3 में दिए आउटवर्ड सप्लाइज  और इनवर्ड सप्लाइज जो रिवर्स चार्ज पर  लाइबल है, उनकी जानकारी पर निर्भर करता है| ITC और  कैश डिपाजिट के इस्तेमाल से टैक्स के आधार पर टैक्स  के भुगतान का ब्रेक-उप यहाँ देना होगा|

 TDS/TCS क्रेडिट: यहाँ  आपको TDS( टैक्स विथहेल्ड  बाय गवर्नमेंट इस्टैब्लिशमेंट) और  TCS ( टैक्स विथहेल्ड बी E-commerce ऑपरेटर) की  जानकारी देनी है| हालाँकि यह GST के शुरुवाती रोल-आउट  से अलग है| TDS और TCS तब तक लागू नहीं होता जबतक नोटिफाई  नहीं किया जाता|

 आप  शायद  यह भी  पढ़ना चाहेंगे: 

GSTR 1 क्या  है? किसे फाइल  करना चाहिए, कैसे  फाइल करते है, ड्यू डेट  और लेट फाइल करने की फ़ीस 

अगर  आपने GSTR-3B फाइल  नहीं किया है तो आपको  eWay बिल नहीं मिलेगा 

नए बिज़नेस टिप्स के उपदटेस के लिए जुड़े रहें Vyaparapp पर  

डाउनलोड करें बेहतरीन फ्री बिलिंग सॉफ्टवेयर

Happy Vyaparing!!!

Leave a Reply