9 तरह के छोटे व्यावसायिक बीमा और उसमे क्या क्या शामिल होते हैं|

कोई भी व्यक्ति भविष्य का अंदाज़ा नहीं लगा सकता है| हमें कभी नहीं पता होता है की आगे क्या होने वाला है| हमारे सामने आए हुए अच्छे बुरे हर परिस्थिति का सामना करने के लिए हमे तैयार रहना चाहिए| अगर आप समझदार हैं तो आप अपने व्यवसाय में आने वाले बुरे परिस्थितियों के लिए आप अवश्य तैयारी करेंगे|

आपके जैसे कई लोगों के लिए उनका व्यवसाय हीं उनका जीवन  है| उनका व्यवसाय हीं उनकी रोज़ी रोटी का ज़रिया है| उनके व्यवसाय के नुकसान की वजह से उन्हें भी क्षति पहुँचती है| इसलिए अपने व्यवसाय का सहीबीमाकराना अति आवश्यक है|

 बीमा आपके व्यवसाय को कई दुर्घटनों जैसे आग, चोरी और कई अनहोनियों से बचाता है| अगर आपने अपने व्यवसाय काबीमानहीं करा रखा है तो मुसीबत के वक़्त आपको काफी आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है| आपके व्यवसाय के लिए कोनसीबीमानिति सही रहेगी यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपका व्यवसाय कहाँ स्थित है, आपके यहाँ कितने कार्यकर्ता काम करते हैं, आपका व्यवसाय कितना बड़ा है, इत्यादि| आपको किस तरह किबीमाकराना है यह इस बात पर निर्भर करता है कि, आप कैसे माहौल में काम करते हैं, आपके व्यवसाय को कितनी हानी पहुँच सकती  है, कितने जोखिम कि सम्भावना है, इत्यादि| 

 

9 तरह केबीमाऔर उनमें क्या क्या शामिल होते हैं, यह यहाँ दिए गए हैं|

 

1 ) जनरल लायबिलिटी इन्शुरन्स (आम उत्तरदाईत्वबीमा)

यह एक आमबीमाहै जो सभी व्यापारियों के पास होना चाहिए| यह आपके व्यवसाय को आम नुकसान जैसे संपत्ति कि हानि, कार्यकर्ताओं का दुर्घटनाग्रस्त हो जाना, न्यायलय में होने वाले खर्च इत्यादि परिस्थितियों से सुरक्षित करता है| आप चाहे आप घर से अपना व्यवसाय चलते हो या किसी कार्यालय से आपके पास यहबीमाहोना हीं चाहिए| 

 

इसमें क्या क्या शामिल होते हैं?

इसमें आपके व्यवसाय के वजह से होने वाले संपत्ति कि क्षति, कार्यकर्ताओं को होने वाले शारीरिक चोटें के लिए, दवाइयों के ख़र्च, वकील कि फ़ीस, इत्यादि जिसके लिए आपका व्यवसाय कानूनी रूप से जिम्मेदार है, इस सभी को शामिल करता है| लगभग सभी व्यवसाय में इसकी ज़रूरत होती है|

 

क्या आप अपने व्यवसाय के लिए ऐसाबीमाकराना चाहते हैं? यहाँ क्लिक करें- https://www.policybazaar.com/commercial-insurance/general-liability-insurance/

 

2 ) प्रॉपर्टी डैमेज इन्शुरन्स (सम्पति क्षति को बचाने के लिए बिमा)

जब आप कोई व्यवसाय चलाते है तो आपके व्यवसाय का स्थान जहाँ आप अपना कार्य करते है, सामान रखते है, यह आपका दूसरा घर बन जाता है| सब यही शुरू और ख़तम होता है| आपकी संपत्ति को किसी भी तरह कि छोटी या बड़ी क्षति आपके व्यवसाय के दिनचर्या कार्य पर बुरा असर कर सकता है|

उदाहरण: आग लगने के कारण सिर्फ आपकी इमारत को हीं नहीं बल्कि वहाँ रखे आपके सामान को भी नुकसान पहुँच सकता है| इससे आपको काफी आर्थिक नुकसान होगा, साथ हीं इससे आपके रोज़ाना व्यवसाय पर भी असर पड़ेगा| अगर आपने अपनी संपत्ति काबीमानहीं करा रखा है तो नुकसान का सारा भार आपके ऊपर आ जायेगा| इसलिए आपको अपनी संपत्ति बचाने के लिए यहबीमाकराना होगा|

 

इसमें क्या क्या शामिल है?

इसकी मदद से आप अपनी उन सभी नुकसान जैसे, संपत्ति कि हानि, उपकरणों कि हानि, फर्नीचर कि हानि इत्यादि, कि भरपाई कर सकते है जो प्राकृतिक आपदा  कि वजह से या दंगों कि वजह से या चोरी कि वजह से हुई है| 

 

क्या आप अपने व्यवसाय के लिए प्रॉपर्टी डैमेज इन्शुरन्स खरीदना चाहते हैं? यहाँ क्लिक करें-  https://www.bajajallianz.com/commercial-insurance/property-insurance

 

3 ) व्हीकल पालिसी (वाहन का बिमा)

यह खरीदना अनिवार्य है| भारत सरकार के नियमों के अनुसार आपको अपने व्यवसाय में काम आने वाले सभी वाहनों काबीमाकराना अनिवार्य है| साथ हीं अगर आपके कार्यकर्ता अपना खुद का  वाहन इस्तेमाल करते हैं तो उनके वाहन का करायाबीमाउनके दुर्घटना के वक़्त उन्हें हर्ज़ाना लेने में मदद करता है| 

 

इसमें क्या क्या शामिल है?

इसमें वाहन के लिए और वाहन चालक के साथ तीसरे व्यक्ति के लिए भी हर्ज़ाना मिलता है जो दुर्घटना के वक़्त चोटिल हुआ है| इसमें एक्सीडेंट, आग, चोरी इत्यादि जैसी सभी प्रस्थितितयों को जोड़ा जाता है|

 

क्या आप अपने वाहन काबीमाकराना चाहते हैं? यहाँ क्लिक करें- https://www.policybazaar.com/insurance-companies/reliance-general-commercial-vehicle-insurance

 

4 ) एमप्लॉयी पालिसी ( कार्यकर्ताओं का बिमा)

कार्य करते वक़्त अगर किसी कार्यकर्ता को क्षति पहुचंचती है या उसकी मृत्यु हो जाती है तो यह आपके व्यवसाय के लिए काफी बुरा साबित हो सकता है| बात सिर्फ कार्यकर्ता को हर्जाने देने की नहीं होती अगर कार्यकर्ता के परिवार वाले चाहें तो वो आपके खिलाफ मुकदमा भी दायर कर सकते हैं| इन्ही कारणों की वजह से कई देशों में खास कर के विदेशों में व्यवसाय का बीमा  कराना अनिवार्य होता है| 

 

इसमें क्या क्या शामिल है?

बीमा  कंपनियां कार्यकर्ताओं  की क्षति और बीमारी से होने वाले ख़र्च को सुरक्षित करती है| यह उन सभी क़ानूनी ख़र्चों का भी ख्याल रखती है जो कार्यकर्ताओं के परिवार द्वारा मुकदमा दायर करने से उठाने पड़ते हैं|

 

अगर आप यह बीमा खरीदना चाहते हैं तो इस देखें- https://www.policybazaar.com/health-insurance/group-health-insurance/

 

5 ) लीगल लायबिलिटी बीमा

व्यवसाय में अपने ग्राहकों के साथ, विक्रेताओं के साथ नोक झोक होना विवाद होना काफी आम बात है| कभी कभी विवाद इतना बड़ा हो सकता है की आपको न्यायालय की मदद लेनी पड़ सकती है|

बीमा  की वजह से न्यायालय में होने वाले ख़र्चों का ख्याल रखा जा सकता है वरना सभी ख़र्च मालिक को अकेले उठाना पड़ता है|

इसमें क्या क्या शामिल है?

इसमें वह सभी खर्च शामिल होते हैं जो क़ानूनी कार्रवाहियों की वजह से आपको उठाने पड़ सकते हैं|

 

अगर आप यह बीमा खरीदना चाहते हैं तो इस देखें- https://www.bajajcapital.com/general-insurance/liability-insurance.aspx

 

6 ) प्रोडक्ट लायबिलिटी इन्शुरन्स ( उपकरणों का बिमा)

अगर आपका व्यवसाय उत्पादन के क्षेत्र से जुड़ा है तो इसबीमाका होना अनिवार्य है| आपके उत्पादों से ग्राहकों को क्षति पहुँच सकती है| ऐसे में आपको यहबीमाबहुत मदद करता है|

 

इसमें क्या क्या शामिल है?

इसमें वैसे सभी खर्च शामिल होते है जो आपके उत्पाद के उपयोग कि वजह से ग्राहक को क्षति पहुँचने कि वजह से आपको देने होंगे|

 

अगर आप यह बीमा खरीदना चाहते हैं तो इस देखें- https://www.bankbazaar.com/miscellaneous-insurance/product-liability-insurance.html

 

7 ) बिज़नेस इंटेररूपशन पालिसी ( व्यवसाय में हस्तक्षेप का बिमा)

यहबीमाउन वयवसायों के लिए होता है जिनके लिए होता है जीना स्थायी होना आवश्यक है जैसे कि किराना दुकान|कई बार प्राकृतिक आपदाओं की वजह से या दंगों की वजह से आपके कार्यकर्ता कार्यालय नहीं आ पते इससे व्यवसाय में हस्तक्षेप होता है और आपके आय का नुकसान होता है| यहबीमाआपको ऐसे आर्थिक नुकसान से बचने में मदद करता है|

 

इसमें क्या क्या शामिल है?

प्राकृतिक आपदाओं और आग कि वजह से व्यवसाय में हस्तक्षेप होने कि वजह से होने वाले नुकसान कि भरपाई इसबीमाकि मदद से कि जा सकती है|

 

अगर आप यहबीमाखरीदना चाहते हैं तो इस देखें- https://general.futuregenerali.in/commercial-insurance/property-insurance/business-interruption-insurance-details

 

8 ) एरर्स और ओमिशन इन्शुरन्स|

अगर आप अपने ग्राहक को सही तरह से सर्विस प्रदान करने में असफल हुए तो आपको ग्राहकों की तरफ से नफरत का सामना करना पड़ सकता है जो आपको भुगतान करने से भी इंकार कर सकते हैं| इससे आपके व्यवसाय के दिनचर्या में नुकसान हो सकता है|

 

इसमें क्या क्या शामिल है?

इसमें आपके वह सभी नुकसान शामिल होते है जो आपको लापरवाहियों कि वजह से झेलने पड़ते है|

 

अगर आप यहबीमाखरीदना चाहते हैं तो इस देखें- https://www.magmahdi.com/

 

9 ) कस्टमाइज्ड इन्शुरन्स:

किसी किसी व्यवसाय के लिए विशेष या अलग तरह केबीमाकि आवश्यकता होती है ऐसे मेंबीमाकंपनियां उनके लिए अलग तरह काबीमाकराती है|

 

इसमें क्या क्या शामिल है?

जैसे कि पेट्रोल पंप वाले पेट्रोल पंपबीमाले सकते हैं, रेस्ट्रॉन्ट वाले रेस्ट्रॉन्टबीमाले सकते हैं, वेयर-हाउस वाले वेयरहाउसबीमाले सकते हैं|

 

अगर आप यहबीमाखरीदना चाहते हैं तो इस देखें- https://www.policybazaar.com/

 

सभीबीमामें प्रीमियम और डिडक्टिबल देना होता है| प्रीमियम उसे कहते हैं जो आपकोबीमासे होने वाले फ़ायदों के बदले देना होता है और डिडक्टिबल उसे कहते हैं जो आपको क्लेम के वक़्त देना होता है| आसान तरीकों में अगर कहें तो जितना काम आपका डिडक्टिबल होगा उतना ज्यादा आपको प्रीमियम भरना होगा| यह अब आप पर निर्भर करता है कि आप सोच समझ कर तय करें कि कोनसाबीमालेना है, आप यह देख सकते हैं कि आपके व्यवसाय को कितने जोखिम का सामना करना पड़ सकता है और उससे आपको कितना आर्थिक नुकसान हो सकता है|

 

क्या आपके पास कोई सवाल है? कृपया नीचे कमेंट करें.

GST से संबंध्ति और नई खबरों के लिए बने रहें हमारे साथ Vyaparapp.in पर।

बेहतरीन GST Accounting Software डाऊनलोड करें 

Happy Vyaparing!!!

vyaparapp, business accounting, invoicing app. billing, create invoice

 

You May Also Like

Leave a Reply